Tuesday, October 4, 2022
spot_img
Homeलीडर विशेषक्या सट्टा बाजार है एग्जिट पोल के पीछे

क्या सट्टा बाजार है एग्जिट पोल के पीछे

पहले भी गलत साबित होते रहे हैं एग्जिट पोल, हजारों करोड़ कमा लिए सट्टा बाजार ने

  • सट्टा बाजार में यूपी में दोबारा भाजपा सरकार बनने पर लग रहा दांव
  • पहले नंबर पर भाजपा तो दूसरे पर सपा पर लग रहा सट्टा 
  • अधिकांश सर्वे एजेंसियां भाजपा को बहुमत मिलने का लगा रहीं अनुमान
  • विपक्ष ने खारिज किया एग्जिट पोल के अनुमानों को

लखनऊ। यूपी विधान सभा चुनाव के नतीजे क्या होंगे इसका पता तो दस मार्च को मतगणना के बाद ही चलेगा लेकिन एग्जिट पोल से सट्टा बाजार में बहार आ गयी है। एग्जिट पोल में यूपी में भाजपा सरकार के दोबारा बनने के आसार से सट्टा बाजार में हजारों करोड़ों के वारे-न्यारे हो गए हैं। सट्टा बाजार में भाजपा पहले और सपा दूसरे नंबर पर चल रही है।

सूत्रों का कहना है कि इस एग्जिट पोल के पीछे सट्टा बाजार का खेल काम कर रहा है अगर नतीजे ऐसे नहीं आए तो इसकी पुष्टिï हो जाएगी कि कुछ लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए इस तरह के एग्जिट पोल कराए गए। वहीं विपक्ष ने एग्जिट पोल के नतीजों को सिरे से खारिज कर दिया है।

एग्जिट पोल को लेकर हमेशा से सवाल उठते रहे हैं। कई बार एग्जिट पोल पूरी तरह असली नतीजों के सामने धराशायी हो चुके हैं। मसलन, पश्चिम बंगाल विधान सभा चुनाव के दौरान अधिकांश एग्जिट पोल में भाजपा को जीतता बताया गया था लेकिन ममता बनर्जी के नेतृत्व में तृणमूल कांग्रेस ने 292 में से 213 विधान सभा सीटों पर जीत दर्ज की और भाजपा को 77 सीटें मिली थीं।

इसी तरह दिल्ली, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों में भी तमाम एग्जिट पोल फेल हो चुके हैं। ऐसे में यूपी विधान सभा चुनाव में एग्जिट पोल की बाजीगरी से इस बात की आशंका को बल मिल रहा है कि इसके पीछे सट्टा बाजार काम कर रहा है। अलग-अलग सटोरियों ने अपने आंकलन के अनुरूप प्रमुख दलों की सीटों का ग्राफ तय किया है।

इनमें भाजपा सबसे आगे है और सपा दूसरे नंबर पर है। कौन दल सरकार बनायेगा, इसे लेकर एक मुश्त रकम के सीधे दांव लगवाए जा रहे, जिनके भाव अलग-अलग हैं। इसके पहले सातवें चरण के मतदान के बाद सटोरियों ने भाजपा को 226 से 229 सीटें दी हैं और इसके अनुरूप भाजपा पर दांव लगाने वालों को 10 हजार के बदले 13 हजार रुपये मिलेंगे।

वहीं सपा को 133 से 136 सीटें दी गईं और इसके अनुरूप सपा पर दांव लगाने वालों को 3200 रुपये के बदले 10 हजार रुपये की वापसी होगी। गौरतलब है कि अधिकांश सर्वे एजेंसियां भाजपा को बहुमत मिलने का अनुमान जता रही हैं।

एग्जिट पोल के कुछ अनुमान

इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया के एग्जिट पोल में भाजपा गठबंधन प्रचंड बहुमत के साथ सरकार बना रही है। भाजपा को 288 से 326 सीटें मिलने का अनुमान है जबकि सपा गठबंधन को 71 से 101 सीटें मिलने का अनुमान है। न्यूज 24 और टुडेज चाणक्या का एग्जिट पोल भी सामने आया है। इसमें भाजपा गठबंधन को 294, सपा गठबंधन को 105, बीएसपी को 2, कांग्रेस को एक और अन्य को एक सीटें मिलती दिख रही हैं।

एग्जिट पोल में ही सपा और अखिलेश यादव के दावों और साइकिल की हवा निकल गई है, मतलब यूपी की जनता 10 मार्च को सपा को समाप्त वादी पार्टी बना रही है।
केशव प्रसाद मौर्य, उपमुख्यमंत्री

एग्जिट पोल्स द्वारा दिखाई जा रही तस्वीर आभासी, भ्रामक और अविश्वसनीय है। जनता इसके पीछे की मंशा को बहुत अच्छे से समझ रही है। समाजवादी गठबंधन पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने जा रहा है। प्रत्याशी व कार्यकर्ता मतगणना तक सतर्क व सक्रिय रहें। निश्चय ही सफलता आपकी राह देख रही है।
शिवपाल सिंह यादव, प्रसपा प्रमुख

एग्जिट पोल्स मोनिटर्ड हैं। समाजवादी गठबंधन 300 से अधिक सीटें जीत रहा है। उम्मीदवार और कार्यकर्ता सावधानी पूर्वक मतगणना कराएं और 10 मार्च को विजय पताका फहराने की तैयारी करें।
रामगोपाल यादव, वरिष्ठï नेता, सपा

उत्तर प्रदेश की जनता का जनादेश, सपा+सुभासपा गठबंधन आ रहा है। टेलीविजन पर ध्यान न दें। जब तक गिनवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं। ईवीएम मशीन पर रहे ध्यान।
ओपी राजभर, अध्यक्ष, सुभासपा

हमारे उम्मीदवारों ने लंबे समय के बाद 400 सीटों पर चुनाव लड़ा है। देखेंगे नतीजे क्या आएंगे, लेकिन कांग्रेस ने बहुत मेहनत की है। इन बातों के बारे में तब तक कुछ नहीं कहा जा सकता जब तक नतीजे नहीं आ जाते।
प्रियंका गांधी, कांग्रेस महासचिव

एग्जिट पोल से नतीजे अलग होंगे। गठबंधन की सरकार बनेगी। यूपी में डर का माहौल है, जो किसी मतदाता की पसंद के बारे में पूछे जाने पर उसके जवाब को प्रभावित कर सकता है। अगर किसी ने हमें (सपा-रालोद) वोट दिया है तो वह डर के मारे भाजपा कह सकता है।
जयंत चौधरी, अध्यक्ष, रालोद

एग्जिट पोल और परिणामों में अक्सर भारी अंतर देखा जाता है, एग्जिट पोल के नतीजे तमाम तरीकों से प्रभावित किये जा सकते हैं । आने वाले परिणामों का इंतजार किया जाना चाहिए । जनता ने निश्चित तौर पर बदलाव की दिशा में वोट किया है ।
वैभव माहेश्वरी, प्रवक्ता, आप

Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News