Friday, July 12, 2024
Homeदेशमध्य प्रदेश30 हजार महीने सैलरी पाने वाली इंजीनियर के घर मिली 30 लाख...

30 हजार महीने सैलरी पाने वाली इंजीनियर के घर मिली 30 लाख की टीवी और 7 करोड़ की प्रॉपर्टी और…

-

मध्यप्रदेश पुलिस हाउसिंग कॉरपोरेशन में प्रभारी सहायक इंजीनियर (संविदा) के पद पर कार्यरत हेमा मीणा के ठिकानों पर गुरुवार को लोकायुक्त का छापा पड़ा है। उनके भोपाल के बिलखिरिया स्थित आवास, फार्म हाउस समेत 3 ठिकानों पर सर्च सुबह 6 बजे से जारी है। घर में 30 लाख की LED लगा रखी थी। वह लग्जरी लाइफ की शौकीन है। फार्म हाउस पर 100 देसी-विदेशी ब्रीड के डॉग्स पाल रखे हैं। 20 लग्जरी कार खड़ी मिलीं। खुद को IPS बताती है और बंगले के कर्मचारियों से बात करने के लिए वॉकी-टॉकी का यूज करती है।

मीणा की मंथली सैलरी 30 हजार रुपए है। अब तक की जांच में 7 करोड़ रुपए कीमत की बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ है जो उनकी घोषित आय से 232% ज्यादा है। भोपाल के बिलखिरिया में हेमा मीणा ने अपने पिता के नाम 20 हजार वर्ग फीट जमीन खरीद रखी है जिस पर बने आलीशान बंगले की कीमत लगभग 1 करोड़ की होगी।अब हुई जांच में भोपाल, रायसेन और विदिशा के कई गांवों में भी जमीन खरीदे जाने के दस्तावेज मिले हैं। हार्वेस्टर, धान बुवाई मशीन, ट्रैक्टर और खेती में काम आने वाले इंस्ट्रूमेंट खरीदी के भी डॉक्यूमेंट्स बरामद हुए हैं। मध्य प्रदेश सरकार कप मीणा के खिलाफ 2020 में आय से अधिक संपत्ति होने की शिकायत मिली थी।

लोकायुक्त एस पी मनु व्यास ने बताया कि हेमा मीणा के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं में केस दर्ज किया गया है तथा विशेष न्यायालय भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम भोपाल से सर्च वारंट लेकर यह कार्रवाई शुरू की गई है।

आगे लोकायुक्त एस पी मनु व्यास ने बताया आज तड़के गुरुवार सुबह 6 बजे हमारी टीम हेमा के बिलखिरिया स्थित बंगले पर पहुंची। टीम को हेमा के कर्मचारियों ने रोकने का प्रयास किया। तब टीम ने बताया कि वह पशु पालन विभाग से हैं और हमें सोलर पैनल चेक करना है। इस पर बंगले के अंदर के कर्मचारियों ने बंगले में टीम को अंदर जाने दिया। अंदर हेमा मिली , उसे जांच की बात कहकर एक कमरे में बैठा दिया गया। उसके मोबाइल तक रख लिए गए। लोकायुक्त टीम के अलावा राजस्व, पशुपालन की 50 लोगों की टीम जांच कर रही है। उसके ऑफिस से भी दस्तावेज बरामद किए जा रहे हैं।

यहां आपको बताते चलें कि हेमा मूलत: रायसेन जिले के चपना गांव की रहने वाली है। 2016 से वह पुलिस हाउसिंग कॉरपोरेशन में पदस्थ है। इससे पहले वह कोच्चि में पदस्थ रह चुकी है। यानी हेमा करीब 13 साल से नौकरी में है। उसकी सैलरी के हिसाब से अधिकतम 15 से 18 लाख रुपए तक की संपत्ति होनी चाहिए, लेकिन शुरुआती जांच में ही उसके पास 7 करोड़ रुपए की संपत्ति मिल चुकी है। अभी बैंक, अन्य दस्तावेज, जेवर की जांच का मूल्यांकन नहीं हुआ है। लोकायुक्त की टीम को पूरी जांच में दो दिन से अधिक का वक्त लग सकता है इसके बाद ही उनके यहाँ मिली सम्पूर्ण संपत्ति के बाबत कुछ कहा जा सकता है।

अब तक सामने आई जानकारी के मुताबिक हेमा अपने पति को तलाक दे चुकी हैं। इसके बाद उन्होंने पुलिस हाउसिंग कॉरपोरेशन जॉइन किया। बताया जा रहा है कि यहां के एक सीनियर इंजीनियर से उनकी अच्छी ट्यूनिंग रही है। तब से उसकी संपत्ति में तेजी से इजाफा होने लगा। बताया गया कि उसके पिता रामस्वरूप मीणा छोटे किसान हैं। जब से बेटी इंजीनियर के संपर्क में आई, इसके बाद उनके नाम से कई एकड़ कृषिभूमि खरीदी जा चुकी है ।फिलहाल लोकायुक्त की टीम मीणा की नजदीकी वाले उक्त सीनियर इंजीनियर से भी पूछताछ करने की तैयारी कर रही है।

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!