Monday, May 23, 2022
spot_img
Homeराजनीतिमुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव ने साईकिल की सवारी छोड़ थामा...

मुलायम की छोटी बहू अपर्णा यादव ने साईकिल की सवारी छोड़ थामा कमल दल का हाथ, चुनाव से पहले अखिलेश को तगड़ा झटका

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधान सभा चुनाव 2022 (uttar prdesh Assembly Election 2022) से पहले सपा प्रमुख अखिलेश यादव को तगड़ा झटका लगा है और मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव बीजेपी में शामिल हो गई हैं। अपर्णा को दिल्ली स्थित बीजेपी मुख्यालय में उत्तर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने पार्टी की सदस्यता दिलाई

विधान सभा चुनाव 2022 से पहले बीजेपी में शामिल होने के बाद अपर्णा यादव ने पीएम और सीएम योगी आदित्यनाथ की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि मैं भाजपा की बहुत आभारी हूं। मेरे लिए देश हमेशा सबसे पहले आता है। अपर्णा यादव ने कहा, ‘मैं पार्टी को धन्यवाद करती हूं कि उन्होंने मुझे पार्टी का हिस्सा बनने का मौका दिया मैं हमेशा से पीएम मोदी से प्रभावित रहती थी और मेरे चिंतन में हमेशा राष्ट्र सबसे पहले है और मेरे लिए राष्ट्र धर्म सबसे पहले हैं ।

आपको बताते चलें कि अपर्णा यादव सपा के पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव की दूसरी पत्नी साधना यादव के बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं। अपर्णा का जन्म 1 जनवरी 1990 को हुआ था और उनके पिता अरविंद सिंह बिष्ट एक पत्रकार रहे हैं। उनके पिता को सपा की सरकार में सूचना आयुक्त बनाया गया था वहीं, उनकी मां अंबी बिष्ट लखनऊ नगर निगम में अधिकारी हैं।

अपर्णा यादव और प्रतीक यादव की मुलाकात स्कूल के दिनों में हुई थी लखनऊ के लोरेटो कॉन्वेंट इंटरमीडिएट कॉलेज से शुरुआती पढ़ाई करने वाली अपर्णा ने ब्रिटेन के मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल रिलेशन एंड पॉलिटिक्स में मास्टर डिग्री ली है। अपर्णा और प्रतीक की सगाई 2010 में हुई थी और दोनों की शादी दिसंबर 2011 में मुलायम सिंह यादव के पैतृक गांव सैफई में हुई । दोनों की एक बेटी है, जिसका नाम प्रथमा है।

अपर्णा यादव ने राजनीति में प्रवेश वर्ष 2017 में लखनऊ की कैंट सीट से विधान सभा का चुनाव सपा के टिकट पर लड़ कर किया था, लेकिन उन्हें भाजपा प्रत्याशी रीता बहुगुणा जोशी से हार का सामना करना पड़ा था। साल 2017 के चुनाव में अखिलेश यादव ने भी अपर्णा के लिए प्रचार किया था।उसके बाद से उन्हें पार्टी में किसी जिम्मेदारी वाला पद न मिलने से वह सपा मुखिया से नाराज चल रही थीं और आज यह नाराजगी ही उन्हें भाजपा के नजदीक ले गयी।अपर्णा भाजपा में शामिल तो हो गयी पर उनकी भी राह आसान नहीं है क्योंकि जिस विधानसभा क्षेत्र से वह चुनाव लड़ना चाहती हैं उस पर उनको हरा कर भाजपा का झंडा फहराने वाली नेत्री रीता बहुगुणा जोशी ने भी दावा ठोंक कर भाजपा के पदाधिकारियों के माथे पर बल ला दिया है।अब देखना दिलचस्प होगा कि लखनऊ की कैंट विधानसभा सीट से कौन ताल ठोंकता है ?

Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News