Saturday, February 4, 2023
spot_img
Homeदेशबिहार में सावन की पहली सोमवारी पर जल चढ़ाने के दौरान भगदड़...

बिहार में सावन की पहली सोमवारी पर जल चढ़ाने के दौरान भगदड़ , 2 महिलाओं की मौत

“बहुत लोग बुरी तरह घायल हैं, उनको देखने वाला कोई नहीं है. यहां फर्स्ट एड का भी कोई इंतजाम नहीं है. सूचना के बाद पुलिस भी आधा घंटा बाद पहुंची. तब तक काफी अफरा-तफरी मची रही. प्रशासन की ओर से सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं है. पहले 12 बजे मंदिर खुलता था, इस बार तीन बजे भोर में ही खुल गया. जल चढ़ाने के दौरान एक पर एक लोग चढ़ गए थे, कोई व्यवस्था नहीं थी”– सतीश शर्मा, श्रद्धालु

सिवान ।  सावन का पवित्र महीना  चल रहा है और आज सावन की पहली सोमवारी है. ऐसे में बिहार के सिवान के महेंद्र नाथ मंदिर में भगवान शिव के जलाभिषेक के लिए भक्तों की भारी भीड़ उमड़ी थी. इस बीच मंदिर में जल चढ़ाने के दौरान भगदड़ मच गई. जिसमें दबकर 2 महिलाओं की मौत हो गई. जबकि एक महिला अस्पताल में इलाजरत है. घटना के बाद वहां काफी अफरा-तफरी का माहौल हो गया. बाद में मौके पर पहुंची पुलिस ने हालात को सामान्य किया.

मंदिर में तिल रखने तक की जगह नहीं बताया जाता है कि महेंद्र नाथ मंदिर में सुबह से ही भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी थी. मंदिर में श्रद्धालुओं की संख्या इतनी बढ़ गई कि लोग एक दूसरे के उपर गिरने लगे. तिल रखने तक की जगह नहीं थी. इसी बीच जल चढ़ाने के दौरान मची भगदड़ में 3 महिलाएं घायल हो गईं.

घटना के बाद तीनों को सिवान सदर अस्पताल लाया गया, जहां दो महिलाओं को डॉक्टरों ने मृत घोषित किया. जबकि एक इलाज सिवान सदर अस्पताल में चल रहा है. मृत महिला की पहचान हुसैनगंज थाना क्षेत्र के प्रतापपुर निवासी मोताब चौधरी की पत्नी लीलावती देवी और जीरादेई थाना क्षेत्र के पथार गांव की रहने वाली सुहागमती देवी के रूप में हुई है.

“बहुत लोग बुरी तरह घायल हैं, उनको देखने वाला कोई नहीं है. यहां फर्स्ट एड का भी कोई इंतजाम नहीं है. सूचना के बाद पुलिस भी आधा घंटा बाद पहुंची. तब तक काफी अफरा-तफरी मची रही. प्रशासन की ओर से सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं है. पहले 12 बजे मंदिर खुलता था, इस बार तीन बजे भोर में ही खुल गया. जल चढ़ाने के दौरान एक पर एक लोग चढ़ गए थे, कोई व्यवस्था नहीं थी”– सतीश शर्मा, श्रद्धालु

गेट खुलते ही उमड़ पड़ी लोगों की भीड़ः उमड़घायल शिव कुमारी के पति जनक देव भगत ने बताया कि मंदिर में सुबह तीन बजे गेट खोलने के दौरान भारी भीड़ उमड़ पड़ी. जिसमें भगवान शिव को जल चढ़ाने के दौरान भगदड़ हो गई. वहीं, गेट के पास दबने से लीलावती देवी और सुहागमती देवी की मौत हो गई. प्रशासन की तरफ से यहां कोई इंतजाम नहीं किया गया है.

लोगों का प्रशासन के प्रति गुस्साः घटना की सूचना मिलने के बाद सिवान थाना पुलिस और चैनपुर महादेवा ओपी पुलिस मंदिर पहुंची और हालात का जायजा लिया और लोगों को शांत कराया. फिलहाल मंदिर में स्थिति सामान्य है लेकिन लोगों का गुस्सा 

Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News