Saturday, February 4, 2023
spot_img
Homeदेशओडिशा : दूषित पानी पीने से 7 की मौत , 71 अस्पताल...

ओडिशा : दूषित पानी पीने से 7 की मौत , 71 अस्पताल में भर्ती

ओडिशा में दूषित जल पीने से 7 लोगों की मौत का मामला सामने आया है. वहीं 71 लोगों को अस्पताल में भर्ती किया गया है. मामले को लेकर विपक्ष ने विधानसभा में हंगामा किया है.

रायगड़ा । ओडिशा के रायगड़ा जिले में दूषित पानी पीने से 7 लोगों की मौत हो गई, जबकि 71 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया. मामले पर राज्य सरकार ने स्वास्थ्य अधिकारियों से रिपोर्ट तलब की है. प्रारंभिक जांच में डायरिया की आशंका जताई जा रही है. वहीं इसे लेकर विधानसभा में विरोध प्रदर्शन हुआ और कांग्रेस ने मामले पर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से बयान मांगा है.

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि पिछले तीन दिनों में मौत के मामले काशीपुर ब्लॉक के गांवों से सामने आए जिसके बाद 11 डॉक्टरों की टीम ने प्रभावित गांवों का दौरा कर जांच के किए पानी और ब्लड सैंपल इकट्ठा किए और उन्हें जांच के लिए भेजा. जल जनित रोग का मामले सबसे पहले मालीगुड़ा गांव में सामने आया जिसके बाद दुदुकाबहल, टिकिरी, गोबरीघाटी, रौटघाटी, जलाखुरा गावों में भी ऐसे मामले देखने को मिले.

अधिकारियों ने यह भी बताया कि डांगसिल, रेंगा, हाडीगुडा, मैकांच, संकरदा, कुचिपदार गावों में भी कई लोग दस्त से पीड़ित हैं जिनका घर पर ही इलाज चल रहा है.

खुले स्त्रोतों से पानी पीने के कारण अस्पताल में भर्ती किए गए 71 लोगों में से 46 लोगों का इलाज टिकिरी पब्लिक हेल्थ सेंटर, 14 लोगों का इलाज काशीपुर कम्युनिटी हेल्थ सेंटर और 11 लड़कियों का इलाज थातीबार पीएचसी के एक आश्रम स्कूल में इलाज किया जा रहा है. इसके अलावा एक मरीज की हालत बिगड़ने पर उसे कोरापुट के एसएलएन मेडिकल कॉलेज में शिफ्ट किया गया है.

इस सिलसिले में रायगड़ा के जिला कलेक्टर स्वधा देव सिंह ने सीडीएमओ डॉ. लालमोहन राउतरे के साथ चिकित्सा केंद्रों का दौरा किया. उन्होंने शनिवार को बताया कि, फिलहाल इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि मौतें डायरिया के कारण हुई हैं, बावजूद इसके डायरिया के मामले सामने आने के बाद हमने पानी से होने वाली बीमारियों का इलाज शुरू कर दिया है. उन्होंने यह भी कहा कि बीमारी को और फैलने से रोकने के लिए पानी के दूषित स्रोतों को कीटाणुरहित किया जा रहा है.

वहीं सीडीएमओ ने कहा कि मालीगुड़ा में एक खुले कुएं में दूषित पानी पाया गया है. उन्होंने बताया कि संबंधित अधिकारियों को गांव वालों के लिए पानी का वैकल्पिक स्त्रोत कि व्यवस्था करने के लिए कहा गया है और अब अन्य गांवों के जल स्रोतों की भी पहचान कर उपचार किया जाएगा. बता दें कि काशीपुर ब्लॉक में जन जनित रोगों का इतिहास पुराना है. साल 2008 में करीब 100 लोगों की डायरिया से मौत हो गई थी जबकि 2010 में हैजा के चलते लगभग 100 लोगों की मौत हुई थी.

Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News