Wednesday, April 24, 2024
Homeराजनीतिभाजपा को झेलनी पड़ सकती है क्षेत्रीय दलों की नाराजगी , सीट...

भाजपा को झेलनी पड़ सकती है क्षेत्रीय दलों की नाराजगी , सीट बटवारे में निषाद पार्टी से कम सीटें मिली अपना दल को

-

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी की सीट शेयरिंग का फॉर्मूला सामने आ गया है. सूत्रों की मानें तो अपना दल और निषाद पार्टी के साथ बीजेपी की सीट शेयरिंग तकरीबन तय हो गई है. बीजेपी ने अपना दल की सीट हालांकि पिछली बार की तुलना में बढ़ा कर 14 सीट दी जबकि निषाद पार्टी को 17 सीटों पर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव लड़ाएगी . बताया जा रहा है कि देर रात भाजपा मुख्यालय में चली बैठक में यह फैसला हुआ है.

लखनऊ । उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी की सीट शेयरिंग का फॉर्मूला सामने आ गया है. सूत्रों की मानें तो अपना दल और निषाद पार्टी  के साथ बीजेपी की सीट शेयरिंग तकरीबन तय हो गई है.

बीजेपी के साथ अपना दल 14 सीट और निषाद पार्टी 17 सीटों पर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव लड़ेगी. बताया जा रहा है कि देर रात भाजपा मुख्यालय में चली बैठक में यह फैसला हुआ है. हालांकि, आधिकारिक ऐलान होना अभी बाकी है.

अगर पिछले चुनाव की बात करें तो अपना दल को भाजपा ने 11 सीटें दी थीं, मगर इस बार उसे तीन सीटें अधिक दी गई हैं. बता दें कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की कोर कमेटी ने बुधवार को नई दिल्ली में एक और मैराथन बैठक की, जिसमें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए सहयोगियों के साथ सीटों के बंटवारे पर चर्चा हुई.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में बीजेपी मुख्यालय में यह बैठक हुई. इसी बैठक में अपना दल और निषाद पार्टी के साथ सीट शेयरिंग के फॉर्मूले को फाइनल रूप दिया गया. इससे पहले मंगलवार को भी एक बैठक हुई थी.

यूपी चुनाव के लिए सीट शेयरिंग के मसले पर लेकर बुधवार को मंथन का दौर 14 घंटे तक चलता रहा और गुरुवार को 1.35 बजे समाप्त हुआ. इससे पहले मंगलवार को कोर कमेटी की पहली बैठक हुई थी, जो 10 घंटे तक चली.

एएनआई ने बताया कि बैठक में मौजूद नेताओं ने 172 सीटों के लिए उम्मीदवारों को भी अंतिम रूप दिया, जहां यूपी चुनाव के पहले तीन चरणों में मतदान होगा. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, बैठक में मौजूद नेताओं ने 172 सीटों के लिए उम्मीदवारों की लिस्ट को भी अंतिम रूप दिया, जहां यूपी चुनाव के पहले तीन चरणों में मतदान होगा.

समाचार एजेंसी के मुताबिक, इन नामों पर गुरुवार को भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति (सीईसी) की बैठक में चर्चा की जाएगी, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहेंगे. एएनआई ने कहा कि केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद सीट बंटवारे के सौदे की भी घोषणा की जाएगी.

इस मामले से अवगत पार्टी पदाधिकारियों ने कहा कि बुधवार की बैठक में जिन निर्वाचन क्षेत्रों पर चर्चा की गई, उनमें अयोध्या है, जहां से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नाम प्रस्तावित किया गया है. बता दें कि मुख्यमंत्री आदित्यनाथ, उनके डिप्टी केशव प्रसाद मौर्य, बीजेपी यूपी चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष और यूपी महासचिव (संगठन) सुनील बंसल मौजूद थे.

बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से पांच बार सांसद हैं और गोरखनाथ मठ के प्रमुख भी हैं. वह वर्तमान में राज्य की विधान परिषद के सदस्य हैं.

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!