Monday, May 20, 2024
Homeउत्तर प्रदेशसोनभद्रपीडब्ल्यूडी के एक्सईएन बने सेलेक्शन बॉन्ड गुरु

पीडब्ल्यूडी के एक्सईएन बने सेलेक्शन बॉन्ड गुरु

-

समर सैम की रिपोर्ट
सोनभद्र। अगर आपने कभी जेम्स बांड सीरीज़ की जासूसी उपन्यास का अवलोकन किया होगा तो उसमें सस्पेंस, रोमांस और मर्डर मिस्ट्री का रोमांच जेम्स बॉन्ड जासूस के क़िरदार के इर्द गिर्द घूमता नज़र आया होगा। लोक निर्माण विभाग सोनभद्र के प्रांतीय खण्ड के अधिशासी अभियंता के सलेक्शन बांड का किरदार जासूसी नॉवेल जेम्स बॉन्ड सीरीज से कम रोमांचकारी नहीं है।

ठेकेदारों के बीच अधिशासी अभियंता का नाम सलेक्शन बांड का पर्याय बन गया है। पीडब्ल्यूडी दफ्तर और चौक चौराहों पर सर्द मौसम के बीच चाय की चुस्की के साथ लोगों के बीच सलेक्शन बांड की गर्मा गर्म चर्चा ए आम है। मुंह में पान की गुलाल भरे चूना चाटते ठेकेदारों का अब तो मज़ाकिया तकिया क़लाम हो गया कि जेम्स बॉन्ड की जासूसी और सलेक्शन बांड के शातिर दिमाग को कोई नहीं पकड़ सकता। योगिराज में जनपद सोनभद्र में पीडब्ल्यूडी विभाग भृष्टाचारियों के चंगुल में पूरी तरह से फंस चुका है जिसकी गूंज कार्यालय परिसर से लेकर चट्टी चौराहों तक सुनाई दे रही है।

पीडब्ल्यूडी प्रांतीय खण्ड के अधिशासी अभियंता द्वारा शासकीय नियमों को सलीब पर टांगकर नश्तर से चाक किया जा रहा है। ऐसा प्रतीत होता है कि अधिशासी अभियंता महोदय अपनी कारगुज़ारियों से योगी आदित्यनाथ सरकार के ज़ीरो टॉलरेंस पॉलिसी की तेरही करने पर आमादा हैं। मनमर्ज़ी से अपने चहेते ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने हेतु रेवड़ी की तरह सलेक्शन बांड बना कर बांट रहे हैं। जैसा महोदय अपने कार्यकाल में सलेक्शन बांड बांट रहे हैं, वैसा तो गुरु जी स्कूलों में पंजीरी भी बच्चों को नहीं बांटते। अब अधिशासी अभियंता महोदय के कारनामों का कितना क़सीदा पढ़ा जाये। बस इतना समझ लीजिए कि जगतगुरु परशुराम जी की दरियादिली याद आ गई। जब कोई याचक भूदान मांगने ब्रह्मशीष भगवान विष्णु के छठे अवतार परशुराम जी के दरबार में नस्तमस्तक होता तो, परशुराम जी कहते लाठी फेंको जहां तक जाये वहाँ तक की भूमि आपकी। कमोबेश ऐसा ही कुछ हाल सलेक्शन बांड गुरु का भी है।

इनदिनों सलेक्शन बांड गुरु का एक ताज़ा कारनामा फिर से सनसनी फैला रहा है। समाजसेवी एवं भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष धर्मवीर तिवारी ने लोक निर्माण विभाग प्रांतीय खण्ड के अधिशासी अभियंता पर गंभीर आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार से जांच हेतु शिकायती पत्र प्रेषित किया। जिला खनिज निधि से होने वाले निर्माण कार्यों में जमकर कमीशनखोरी का खेल खेला जा रहा है। जिला खनिज निधि से बभनी में मुर्ध्वा बभनी वाया बीजपुर मार्ग के लिए धन आवंटित किया गया था। सेवाकुंज आश्रम के सामने इंटरलॉकिंग टाइल्स द्वारा निर्मित संपर्क मार्ग के निर्माण कार्य हेतु 50 लाख रुपये की धनराशि आवंटित की गई थी। समाजसेवी धर्मवीर तिवारी ने इस कार्य पर शिकायती पत्र में आरोप लगाया कि केवल एक बार निविदा आमंत्रित की गई। दिनांक 14 अक्टूबर 2022 से 22 अक्टूबर 2022 जो कि सर्वतः ग़लत व शासनादेश के विरुद्ध है। कोई भी निविदा नियमानुसार तीन बार दैनिक समाचार पत्र में प्रकाशित कराये जाने के पश्चात ही यदि कोई ठेकेदार टेंडर नहीं डालता तब ही उस पर ठेकेदारों से आम सहमति बनाकर ही सलेक्शन बांड बनाये जाने का नियम है।

भाजपा नेता नेता ने आरोप लगाया है कि नियम को ताक पर रख केवल एक बार ही निविदा प्रकाशित करने के बाद ही अपने उच्चाधिकारियों की आंख में धूल डाल बांड को तोड़कर अधिशासी अभियंता द्वारा अपने कुछ चहेते ठेकेदारों को सलेक्शन बांड बना दिया गया। कर्मठ एवं जुझारू भाजपा नेता धर्मवीर तिवारी ने सलेक्शन बांड गुरु की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की है। ताकि शासन की ज़ीरो टॉलरेंस की नीति को कायम रखा जा सके। साथ ही राजस्व एवं जनछति को डैमेज करने वालों को कानून के दायरे में लाया जा सके।

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!