Saturday, April 13, 2024
Homeराजनीतिक्या चोपन नगर पंचायत की सीट पर निषाद पार्टी को मिली जीत...

क्या चोपन नगर पंचायत की सीट पर निषाद पार्टी को मिली जीत पार्टी के लिए गेटवे ऑफ सोनभद्र साबित होगी ?

-

सोनभद्र।हालिया सम्पन्न निकाय चुनाव में सोनभद्र की 10 निकायों में से एक सीट भाजपा ने उत्तरप्रदेश में अपनी सहयोगी दल निषाद पार्टी को दिया था जिस पर निषाद पार्टी की तरफ से चोपन नगर पंचायत में उष्मान अली ने चुनाव जीत कर निषाद पार्टी की सोनभद्र में इंट्री करा दी है।चोपन की नगरपंचायत सीट पर निषाद पार्टी को मिली जीत के उपरांत निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री डॉ संजय निषाद चोपन की जनता का धन्यवाद ज्ञापित करने सोनभद्र में आये हुए थे और सर्किट हाउस में अपने पार्टी के कार्यकर्ताओं से मिलने के बाद पत्रकारों से मुखातिब होते हुए उन्होंने सोनभद्र में अपनी पार्टी की आगे की रणनीति के बारे में खुलासा करते हुए कहा कि हमारे समाज की जनसंख्या यहाँ के चारों विधानसभा में निर्णायक है।इसलिए आगे भविष्य में होने वाले चुनावों हम लोकसभा व विधानसभा में भी अपने सहयोगी दल भाजपा से कुछ सीट की मांग भी कर सकते हैं।

उत्तरप्रदेश सरकार में मंत्री डॉ संजय निषाद जो कि निषाद पार्टी के अध्यक्ष भी हैं ,ने पत्रकारों से कहा कि पहले हमने अपने समाज के जीवन को आसान बनाने व उनके हक की लड़ाई लड़ने के लिए जिसका भी साथ दिया उन सबने सत्ता प्राप्ति के बाद हमारे समाज को ठगने का काम किया तब हमने अपने मछुआ समाज के उत्थान के लिए अपनी पार्टी बनाई और आज हम वर्तमान सरकार में रहकर अपने समाज की भलाई व उत्थान के अनेक कार्यक्रम चला रहे हैं जिससे हमारे समाज मे अब जागरूकता भी आ रही है और सरकार की तरफ से चलाई जा रही योजनाओं से उनके जीवन स्तर में बढोत्तरी भी हो रही है।आगे उन्होंने पत्रकारों के एक सवाल कि क्या भविष्य में निषाद पार्टी लोकसभा या फिर विधानसभा चुनाव में सोनभद्र में कुछ सीटों पर चुनाव लड़ सकती है ?पर उन्होंने कहा कि सोनभद्र में कुछ सीटों पर मछुआ समुदाय बड़ी संख्या में हैं इस लिहाज से उन्हें सोनभद्र से अपने समुदाय के प्रतिनिधित्व के लिए लोकसभा व विधानसभा उनका प्रतिनिधि होना ही चाहिए।फिलहाल निषाद पार्टी निकाय चुनाव की जीत से गदगद है और आगे की रणनीति तैयार करने में लग गयी है।

समसामयिक राजनीतिक क्षेत्र से मिल रही हलचलों पर विश्वास किया जाय तो वर्तमान सत्ताधारी दल भाजपा के कुछ बड़े चेहरे जिन्हें यह लगता है कि निकट भविष्य में उन्हें भाजपा से लोकसभा या फिर विधानसभा में टिकट नहीं मिल पायेगा तो वह लोग सोनभद्र में अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा पूरी करने के लिए राजनीति के पिछले दरवाजे से प्रवेश के लिए निषाद पार्टी का दामन थाम सकते हैं।निकाय चुनाव में निषाद पार्टी को मिली सफलता ने फिलहाल सोनभद्र की राजनीति में एक नए अध्याय की पटकथा लिख दी है जिसमे निकट भविष्य में कई नाटकीय घटनाक्रम देखने को मिल सकते हैं और कुछ राजनीतिक चेहरों के कंधों पर लटकने वाले गमछों व उनके सिर की टोपी के रंग भी बदल सकते हैं।

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!