Thursday, June 20, 2024
HomeदेशManipur Violence : मणिपुर के इंफाल में एक बार फिर हिंसा का...

Manipur Violence : मणिपुर के इंफाल में एक बार फिर हिंसा का तांडव , हिंसा में उतारू भीड़ ने फूंका केन्द्रीय मंत्री का घर

-

Manipur Violence : मणिपुर के इंफाल में बीती रात भीड़ ने केंद्रीय मंत्री आर के रंजन सिंह के घर पर आग लगा दी. अधिकारियों के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री घटना के समय घर पर नहीं थे. 

Manipur violence news इंफाल ।  पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर में हिंसा की ताजा घटना में बीती रात एक केंद्रीय मंत्री के घर पर भीड़ ने हमला किया था. भीड़ ने आरके रंजन सिंह के घर को आग लगा दी. अधिकारियों ने कहा कि केंद्रीय मंत्री आरके रंजन सिंह घटना के समय घर पर नहीं थे.

जातीय संघर्ष से प्रभावित मणिपुर में बृहस्पतिवार को भीड़ ने कम से कम दो खाली घरों में आग लगा दी। अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने इंफाल के न्यू चेकॉन में भीड़ को तितर-बितर करने के लिए बल प्रयोग किया और भीड़ पर आंसू गैस के गोले छोड़े. 

यह घटना ऐसे समय हुई जब सेना और असम राइफल्स के जवानों ने राज्य में हिंसा बढ़ने के बाद अपना अभियान तेज कर दिया है. सेना की टुकड़ियों ने गश्त बढ़ा दी हैं और जहां भी अवरोध लगाए गए थे, उन्हें हटा दिया गया है. 

हमले में हुई थी नौ लोगों की मौत

सेना ने एक ट्वीट में कहा कि हाल में हिंसा में वृद्धि के बाद सेना और असम राइफल्स के अभियान में तेजी लाई जा रही है. एक दिन पहले ही राज्य के खमेनलोक इलाके के एक गांव में उपद्रवियों के हमले में nine dead in Manipur violence नौ लोगों की मौत हो गई थी और 10 घायल हो गए थे. खमेनलोक इलाके में एक कुकी गांव में बुधवार तड़के हुए हमले के बाद सुरक्षा बलों ने अपने अभियान को फिर से तेज कर दिया है.

एक महीने पहले मणिपुर में मेइती और कुकी समुदाय के लोगों के बीच हुई जातीय हिंसा में 100 से अधिक लोगों की जान चली गई है और 300 से अधिल लोग घायल हुए हैं. सैकड़ों लोग अब भी राहत शिवरों में रहने के लिए मजबूर हैं.

राज्य में शांति बहाल करने के लिए सेना और अर्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात किया गया है. मणिपुर के 11 जिलों में कर्फ्यू लागू है, जबकि इंटरनेट सेवाएं निलंबित हैं. 

Also read (यह भी पढ़ें) खनन विभाग पर चला मुख्यमंत्री का चाबुक : भ्रष्टाचार में लिप्त खनन विभाग के 5 अधिकारियों / कर्मचारियों को किया निलंबित, 3 को मुख्यालय से संबद्ध कर जांच के दिये आदेश

मणिपुर में अनुसूचित जनजाति (एसटी) का दर्जा देने की मेइती समुदाय की मांग के विरोध में तीन मई को पर्वतीय जिलों में ‘आदिवासी एकजुटता मार्च’ के आयोजन के बाद राज्य के कई हिस्सों में हिंसकर झड़पें हुई थीं.

Manipur violence, imfal violence, union minister rk ranjan singh sonbhdra news

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!