Wednesday, April 24, 2024
Homeबिग ब्रेकिंगBreaking: खनन निदेशक पहुंची सोनभद्र,ट्रक ओनर्स एशोसिएशन व पट्टाधारकों संग करेंगी बैठक,जानेंगी...

Breaking: खनन निदेशक पहुंची सोनभद्र,ट्रक ओनर्स एशोसिएशन व पट्टाधारकों संग करेंगी बैठक,जानेंगी खनन उद्योग का हाल

-

Sonbhadra news सोनभद्र। पिछले कुछ हफ़्तों से सोनभद्र के खनन उद्योग में गतिविधियां ठप्प सी पड़ गयी हैं।ट्रकों के पहिये थम से गए हैं जिसका परिणाम है कि खनन उद्योग से जुड़े लोगों की रोजी रोटी पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं।अब कारण जो भी हो पर यदि यही हाल रहा तो खनन कारोबार से जुड़ी गतिविधियों से रोजी रोटी का जुगाड़ करने वाले मजदूर तबके के चूल्हे ठंडे पड़ सकते हैं और शायद इस बात की चिंता किसी को नही है क्योंकि यह ऐसा तबका है  जो रोज कुंआ खोदता है और पानी पीता है ऐसे में यदि खनन उद्योग कुछ दिनों के लिए भी बन्द होता है तो यह मजदूर तबका सबसे अधिक प्रभावित होता है।यहां आपको बताते चलें कि पिछले दिनों ट्रक ओनर्स एशोसिएशन के पदाधिकारियों ने राजधानी लखनऊ जाकर खनन निदेशक को अपनी परेशानियों के बाबत मसलन परमिट की कालाबाजारी व ऊंचे कीमत पर अर्थात परमिट की निर्धारित कीमत से अधिक मूल्य लिए जाने की शिकायत से सम्बंधित ज्ञापन सौंप उसके समाधान की मांग की थी।

Also read (यह भी पढ़ें)चंद महीनों पूर्व कायाकल्प हुए काली मंदिर खेल पार्क की धंसने लगी जमीन !

खनन उद्योग से सम्बंधित तमाम समस्याओं जैसे खनन पट्टाधारकों व ट्रक ऑपरेटरों की समस्याओं के समाधान के लिए आज खनन निदेशक सोनभद्र के दौरे पर आई हैं और कलेक्ट्रेट सभागार में अधिकारियों व खनन व्यवसायियों के साथ मीटिंग कर उनकी समस्याओं व उनके समाधान के क्या उपाय हो सकते हैं पर मंथन किया जा रहा है।यहां आपको बताते चलें कि ट्रक ओनर्स एशोसिएशन के लोगों का आरोप है कि उनके वाहनों पर ओभरलोड खनन सामग्री को लोड तो खनन व्यवसायियों द्वारा किया जाता है परन्तु पकड़े जाने पर पेनाल्टी केवल वाहन स्वामियों से वसूली जाती है।उनकी मांग है कि या तो हर क्रेशर पर मशीन लगा दी जाय कि जितने मात्रा का परमिट दिया जाय उतना ही माल उनके वाहनों पर लोड किया जाय और जब तक यह व्यवस्था लागू नहीं हो जाती तब तक परमिट पर अंकित मात्रा से थोड़ा बहुत ओभरलोड होने पर विभाग द्वारा उनकी प्रताड़ना पर रोक लगाई जाय।

Also read (यह भी पढ़ें) चप्पल से पिटाई के बाद थूक कर चटवाने का वीडियो वायरल मामले में बालडीह घटनास्थल पर लाव लश्कर के साथ पहुंचे डीआईजी, पीड़ित परिवार से की मुलाकात

निदेशक के साथ बैठक में भाग लेने जाते खनन व्यापारी

ट्रक ऑपरेटर एशोसिएशन की दूसरी मांग है कि खनन क्षेत्र में उनके वाहन खनन सामग्री लोड करने के बाद परमिट के इंतजार में हफ़्तों खड़े रह जाते हैं अर्थात क्रेशर स्वामियों के पास परमिट नहीं होने के कारण परमिट की कालाबाजारी की जा रही है।एशोसिएशन के लोगों का कहना है कि खदान मालिकों द्वारा 300 रुपये घन मीटर वाला परमिट वर्तमान में 1500 रुपये घन मीटर में दिया जा रहा है जिसकी वजह से पूरे पूर्वांचल की मंडी में सोनभद्र की गिट्टी बहुत ही महंगी हो गयी है जिसका परिणाम यह हो गया है कि दूसरे प्रान्तों या उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों से मंडी में पहुंचने वाली सस्ती गिट्टी के कारण बाजार की प्रतिस्पर्धापरक मूल्य में महंगी होने से सोनभद्र की गिट्टी न बिक पाने के कारण उनके वाहनों को खड़े होकर काफी इंतजार करना पड़ता है। अब देखना होगा कि खनन निदेशक के आज सोनभद्र दौरे के बाद समस्याओं से जूझते सोनभद्र के खनन उद्योग की समस्या का क्या समाधान निकलता है ?फिलहाल सोनभद्र की जनता को इंतजार है कि कब गिट्टी बालू सस्ता होगा ? क्योंकि अखिलेश यादव की सरकार के समय सोनभद्र की फिजाओं में भाजपा का केवल एक यही नारा लोकप्रिय हुआ करता था कि “”गिट्टी बालू सस्ता होगा ,हर गरीब का घर पक्का होगा ” अब जब से भाजपा की सरकार बनी है सोनभद्र के लोग सस्ते गिट्टी बालू की आस लगाए बैठे हैं।

बैठक में भाग लेने जाते ट्रक ओनर्स एशोसिएशन के लोग

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!