Saturday, April 13, 2024
Homeब्रेकिंगसदर कोतवाली क्षेत्र के हॉस्पिटल में 25 वर्षीय विवाहिता की मौत,परिजनों...

सदर कोतवाली क्षेत्र के हॉस्पिटल में 25 वर्षीय विवाहिता की मौत,परिजनों ने लापरवाही का लगाया आरोप

-

सीएमओ के निर्देश पर हॉस्पिटल को किया गया सील,जांच के दौरान अस्पताल प्रबंधन द्वारा मरीज के इलाज के बाबत कोई अभिलेख नही किया गया प्रस्तुत

सोनभद्र। कोतवाली क्षेत्रान्तर्गत कांशी राम आवास की रहने वाली पूजा पत्नी विनोद को डिलेवरी के लिए क्रिधा हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था। लड़की के पिता राजू नेता ने बताया कि जब पूजा को प्रसव पीड़ा हुई तो पास में ही रहने वाली आशा को बुलाया गया और उसने ही पूजा को डिलीवरी के लिए उक्त हॉस्पिटल ले जाने की सलाह दी जिसमे ऑपरेशन से बच्चा पैदा हुआ जिसके लिए हॉस्पिटल में 30 हजार रुपये जमा कराया गया था।

डिलीवरी के कुछ देर बाद हॉस्पिटल के लोगों द्वारा बताया गया कि ऑपरेशन के बाद किसी वजह से पूजा की तबियत बिगड़ रही है और उसे आगे के इलाज के लिए वाराणसी ले जाना पड़ेगा।इसके कुछ देर बाद ही उसे ऑक्सीजन आदि लगाकर वाराणसी के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में ले जाया गया जहां डॉक्टरों द्वारा उसे देखने के बाद हालत सीरियस होने की बात कहकर वहां से बीएचयू के लिए रेफर कर दिया गया जहां पहुंचने पर डाक्टर ने बताया कि उक्त मरीज की 2 घण्टा पहले मौत हो चुकी है।

मृतका पूजा के मायके वालों का कहना है कि लगता है कि उसकी मौत तो राबर्ट्सगंज के उसी हॉस्पिटल में हो गयी थी जहां उसका ऑपरेशन किया गया था पर उक्त हास्पिटल वाले साजिस के तहत आक्सीजन के सहारे उसे बनारस ले गए जहां डाक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।मिली जानकारी के मुताबिक हॉस्पिटल प्रबंधन द्वारा येन केन कोई न कोई उपाय करके शव का दाह संस्कार भी करा दिया गया। उक्त निजी हॉस्पिटल को बीती रात ही बन्द करके उक्त हॉस्पिटल में काम करने वाले कर्मचारियों सहित प्रबंधन सम्भाल रहे लोग गधे की सींग की तरह गायब हो गये।

उक्त मामले पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अश्वनी कुमार ने बताया कि किसी ने उन्हें मोबाइल पर सूचना दी कि शहर के एक हॉस्पिटल में महिला की मौत होने पर कुछ हंगामा हुआ है तथा वहां मौके पुलिस भी पहुंची है।उक्त सूचना पर उनके द्वारा तत्काल झोलाछाप डॉक्टरों व हॉस्पिटल की जांच के”सह नोडल डॉ रामकुअर” को मौके पर भेजा, उनके पहुचने पर उक्त हॉस्पिटल बन्द रहा।वहां पर उक्त हॉस्पिटल के मैनेजर को बुलाया गया और उनसे जब उक्त मरीज के इलाज के बाबत अभिलेख मागा गया तो उन्होंने अभिलेख देने से साफ इंकार कर दिया और जांच अधिकारी को कोई भी अभिलेख प्रस्तुत नही किया जिसके कारण उक्त हॉस्पिटल को सील कर दिया गया हैं। आगे उक्त हॉस्पिटल को नोटिस जारी कर उनका पक्ष जानने के बाद उनके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!