Saturday, February 4, 2023
spot_img
Homeराजनीतिरामपुर में आजम के किले को ध्वस्त कर भाजपा प्रत्याशी आकाश सक्सेना...

रामपुर में आजम के किले को ध्वस्त कर भाजपा प्रत्याशी आकाश सक्सेना ने खिलाया कमल

उत्तर प्रदेश के बहुचर्चित रामपुर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी आकाश सक्सेना ने समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता मोहम्मद आजम खान का किला ध्वस्त कर आजम के करीबी सपा प्रत्याशी आसिम राजा को हरा दिया। भाजपा प्रत्याशी आकाश सक्सेना ने उन्हें 33,000 से अधिक मतों से हरा रामपुर विधानसभा में कमल खिला दिया । मतगणना शुरू होने के बाद रामपुर सीट पर मतगणना में काफी उतार – चढ़ाव दिखा । शुरुआत में पिछड़ने के बाद सपा प्रत्याशी आसिम राजा ने शानदार वापसी करते हुए बढ़त बना ली मगर बाद में भाजपा प्रत्याशी आकाश सक्सेना आगे निकल गए । आखिरकार आकाश सक्सेना रामपुर में कमल खिलाने में कामयाब रहे । आपको बताते चलें कि आजम खान की सदस्यता रद्द होने के बाद इस विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुआ है और इस उपचुनाव को आजम खान के लिए प्रतिष्ठा की जंग माना जा रहा था जिसमें भाजपा प्रत्याशी ने जीत दिलाकर आजमखान के किले को ध्वस्त कर दिया।

यहां आपको बताते चलें कि रामपुर विधानसभा सीट पर 5 दिसंबर को हुए उपचुनाव में केवल 33.94 फ़ीसदी मतदान हुआ था । रामपुर में कम मतदान को लेकर समाजवादी पार्टी की ओर से सत्ताधारी दल पर सवाल भी उठाए गए थे । सपा प्रत्याशी आसिम राजा ने आरोप लगाया था कि पुलिस और प्रशासन के लोगों ने सपा समर्थकों को घरों में कैद कर काफी संख्या में लोगों को वोट नहीं डालने दिया था। उन्होंने पुलिस पर एक वर्ग विशेष के लोगों को परेशान करने का आरोप भी लगाया था । मतगणना के दिन वे यह कहते हुए मतगणना स्थल से बाहर निकल गए थे कि ऐसे हालात में मैं चुनाव नहीं जीत पाऊंगा । समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव ने भी चुनाव आयोग को पत्र लिखकर रामपुर के उपचुनाव को रद्द करके फिर से वोटिंग कराने की मांग की थी । उन्होंने रामपुर चुनाव में वोटिंग के दौरान बड़े पैमाने पर धांधली किए जाने का आरोप लगाया था । उन्होंने पुलिस पर बर्बरता का आरोप लगाते हुए कई लोगों के घायल होने की बात भी कही थी । अब उपचुनाव में भाजपा की जीत के बाद इसे लेकर सियासी माहौल गरमाने के आसार हैं ।

यहां आपको बताते चलें कि रामपुर विधानसभा सीट पर पहली बार कमल खिलाने के बाद भाजपा प्रत्याशी आकाश सक्सेना काफी उत्साहित दिखे । उन्होंने पत्र प्रतिनिधियों से बात करते हुए कहा कि इस उपचुनाव के दौरान मुझे हर वर्ग का समर्थन मिला है । उन्होंने दावा किया कि हिंदुओं के साथ मुस्लिमों ने भी उन्हें समर्थन दिया है । उन्होंने कहा कि रामपुर के उपचुनाव में धांधली किए जाने के सपा के आरोपों में कोई दम नहीं है । सपा के आरोप पूरी तरह बेबुनियाद हैं क्योंकि पूरी ईमानदारी के साथ यहां उपचुनाव कराया गया है । आकाश सक्सेना ने कहा कि जीत हासिल करने के बाद अब वे रामपुर के विकास और उद्योगों की प्रगति के लिए काम करेंगे । फिलहाल सियासी जानकार रामपुर में आकाश सक्सेना की जीत को भाजपा की बड़ी कामयाबी मान रहे हैं और कह रहे हैं कि आखिर कब तक बचा रहता चलता आजम खां का किला।धीरे धीरे किले की दीवारों में कमलदल वाले छेद कर आजम के गढ़ में घुस गए और रामपुर में कमल खिला दिया है।अब आगे आने वाला वक्त ही बताएगा कि आकाश सक्सेना कब तक अपना गढ़ बचाने में कामयाब रहते हैं क्योंकि जिन लोगों ने परिवर्तन की आशा में सपा को छोड़ भाजपा को वोट दिया है उनकी अभिलाषाओं की पूर्ति आसान नहीं होगी और यदि उनकी उम्मीदों पर कमलदल वाला प्रत्याशी खरा नहीं उतरा तो निकट भविष्य में परिणाम उलट भी सकता है।

यदि हम उत्तर प्रदेश के पिछले चुनावों पर नजर डालें तो रामपुर विधानसभा सीट को समाजवादी पार्टी और आजम खान का गढ़ यूं ही नहीं माना जाता । रामपुर विधानसभा सीट से सपा नेता आजम खान 10 बार विधायक चुने जा चुके हैं । 1996 के बाद समाजवादी पार्टी का लगातार इस सीट पर कब्जा बना हुआ है और भाजपा तमाम कोशिशों के बावजूद रामपुर विधानसभा क्षेत्र में आजम खान को कभी नहीं हरा सकी । यहाँ तक कि 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में आंधी चली और उस चुनाव में कई दिग्गजों का गढ़ ढह गया और भाजपा ने यूपी में बड़ी जीत हासिल की थी मगर भाजपा की उस लहर में भी आजम खान ने रामपुर विधानसभा सीट पर अपना जलवा कायम रखा था ।

फिर 2019 के लोकसभा के लिए हुए आमचुनाव में आजम खां के सांसद चुन लिये जाने के बाद आजम खान ने इस विधानसभा सीट से इस्तीफा दे दिया था और उसके बाद हुए उपचुनाव में आजम खान की पत्नी तंजीम फातिमा इस विधानसभा सीट से सपा के टिकट पर विजय दिला कर रामपुर विधानसभा सीट पर अपना दबदबा कायम रखने का सिलसिला नहीं टूटने दिया । इसके बाद 2022 में हुए विधानसभा के आमचुनाव में भी आजम खान ने रामपुर विधानसभा सीट पर फिर अपनी ताकत दिखाई और 2022 का विधानसभा चुनाव आजम खान ने जेल से लडकर जीतकर यह बता दिया कि रामपुर उनका है परन्तु कुछ महीनों बाद ही हुए उपचुनाव में सपा की हार पर फिलहाल भाजपा की बांछे खिल गयी हैं।




Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News