Tuesday, February 27, 2024
Homeराजनीतियोगी सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार लगभग तय, फिर से चर्चा में पूर्व...

योगी सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार लगभग तय, फिर से चर्चा में पूर्व नौकरशाह एके शर्मा

-

ईमानदार और निड़र पत्रकारिता के हाथ मजबूत करने के लिए विंध्यलीडर के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब और मोबाइल एप को डाउनलोड करें

योगी कैबिनेट विस्तार को लेकर चर्चा है कि बीजेपी संगठन से एक से दो लोगों को शामिल किया जा सकता है. सारी रणनीति 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव को देखते हुए तैयार की गई है.

लखनऊ । भारतीय जनता पार्टी की यूपी सरकार में मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा तो काफी पहले से चली आ रही है लेकिन कुछ ना कुछ पेंच फंसता जा रहा था. प्रदेश स्तर से नाम भेजने के लगभग महीने भर से अधिक हो गए, तब जाकर विस्तार के लिए दिल्ली कमान से हरी झंडी मिली. लेकिन जब विस्तार मूर्त रूप लेता इसी बीच पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का निधन हो गया और विस्तार पर एक बार फिर ग्रहण लग गया. लंबे अर्से के बाद एक बार फिर विस्तार की गहमागहमी नजर आ रही है, लेकिन चर्चा इस बात की सबसे ज्यादा है कि क्या पूर्व नौकरशाह और पीएम मोदी के करीबी रहे अरविंद कुमार शर्मा मंत्री पद की शपथ लेंगे या नहीं?

गौरतलब है कि जब से पूर्व नौकरशाह अरविंद कुमार शर्मा ने जनवरी 2021 में बीजेपी ज्वाइन की, तब से उनके मंत्री पद की शपथ लेने की चर्चा भी शुरू हो गई थी. मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं तो शुरू हुईं लेकिन विस्तार टलता चला गया. उनके बीजेपी ज्वाइन करने के छठे महीने में संगठन का विस्तार हुआ. पूर्व नौकरशाह एके शर्मा को पिछले जून महीने में प्रदेश उपाध्यक्ष बना दिया गया. उसके बाद मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं और उनके मंत्री बनने की चर्चाओं पर भी विराम लगता दिखा.

इसके थोड़े ही दिनों बाद लगभग दो महीने पहले यूपी बीजेपी ने सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ बैठकर नामों पर चर्चा की और उसे दिल्ली हाईकमान के पास भेज दिया गया. उन नामों पर दिल्ली हाईकमान ने मुहर लगा दी है, जिसके बाद से चर्चाओं का बाजार एक बार फिर गर्म है कि क्या पीएम मोदी के करीबी रहे प्रदेश उपाध्यक्ष और पूर्व नौकरशाह मंत्री पद की शपथ लेंगे. चर्चा है कि संगठन से एक से दो लोगों को विस्तार में शामिल किया जा सकता है. सारी रणनीति 2022 के विधानसभा चुनाव को देखते हुए तैयार की गई है.

ये है योगी मंत्रिमंडल की ताजा स्थिति

फिलहाल योगी मंत्रिमंडल में 23 कैबिनेट मंत्री, 9 स्वतंत्र प्रभार मंत्री और 22 राज्यमंत्री हैं, यानी मंत्रियों की संख्या कुल 54 है. नियमों के मुताबिक, अभी 6 मंत्री पद खाली हैं. ऐसे में योगी सरकार अगर कैबिनेट से किसी भी मंत्री को नहीं हटाती है तो भी 6 नए मंत्री बनाए जा सकते हैं. इसमें ओबीसी, ब्राह्मण के साथ ही अन्य जातियों को साधने की कोशिश हो सकती है.

दूसरी बार मंत्रिमंडल का होगा विस्तार

प्रदेश सरकार के 19 मार्च 2017 को गठन के बाद योगी सरकार ने 22 अगस्त 2019 को मंत्रिमंडल विस्तार किया था. उस दौरान उनके मंत्रिमंडल में 56 सदस्य थे. कोरोना के चलते तीन मंत्रियों का निधन हो चुका है. हाल ही में राज्यमंत्री विजय कुमार कश्यप की मौत हो गई थी, जबकि कोरोना की पहली लहर में मंत्री चेतन चौहान और मंत्री कमल रानी वरुण का निधन हो गया था. पहले मंत्रिमंडल विस्तार में 6 स्वतंत्र प्रभार मंत्रियों को कैबिनेट की शपथ दिलाई गई थी, इसमें तीन नए चेहरे भी थे.

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!