Monday, May 20, 2024
Homeलीडर विशेषभुखमरी सूचकांक में भारत श्रीलंका , नेपाल , बांग्लादेश और पाकिस्तान से...

भुखमरी सूचकांक में भारत श्रीलंका , नेपाल , बांग्लादेश और पाकिस्तान से भी बुरा हाल , पहुंचा 107वें स्थान पर

-

भारत श्रीलंका (64), नेपाल (81), बांग्लादेश (84), और पाकिस्तान (99) से भी नीचे है. अफगानिस्तान (109) दक्षिण एशिया का एकमात्र देश है जो सूचकांक में भारत से भी खराब स्थिति में है. ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत 121 देशों में से 107 वें स्थान पर है, जिसमें यह युद्धग्रस्त अफगानिस्तान को छोड़कर दक्षिण एशिया के सभी देशों से भी बदतर है.

नई दिल्ली : भुखमरी सूचकांक (GHI) वैश्विक, क्षेत्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर भूख को व्यापक रूप से मापने और ट्रैक करने का एक पैमाना है. भुखमरी सूचकांक स्कोर चार घटक संकेतकों के मूल्यों पर आधारित होते हैं – अल्पपोषण, बाल स्टंटिंग, बाल दुबलापन और बाल मृत्यु दर. GHI स्कोर की गणना 100 अंकों के पैमाने पर की जाती है जो भूख की गंभीरता को दर्शाता है, जहां शून्य सबसे अच्छा स्कोर है (भूख नहीं) और 100 सबसे खराब है. भारत का 29.1 का स्कोर इसे ‘गंभीर’ श्रेणी में रखता है.

भारत श्रीलंका (64), नेपाल (81), बांग्लादेश (84), और पाकिस्तान (99) से भी नीचे है. अफगानिस्तान (109) दक्षिण एशिया का एकमात्र देश है जो सूचकांक में भारत से भी खराब स्थिति में है. चीन सामूहिक रूप से 1 और 17 के बीच रैंक वाले देशों में से है, जिसका स्कोर पांच से कम है. भारत में बच्चों के दुबले होने की दर (ऊंचाई के लिए कम वजन), 19.3% पर, 2014 (15.1%) और यहां तक कि 2000 (17.15%) में दर्ज किए गए स्तरों से भी बदतर है. यह दुनिया के किसी भी देश के लिए सबसे अधिक है. इसकी एक वजह भारत की विशाल जनसंख्या के कारण औसत भी हो सकती है.

अल्पपोषण की व्यापकता, जो कि आहार ऊर्जा सेवन की कमी का सामना करने वाली आबादी के अनुपात का एक पैमाना है, देश में 2018-2020 में 14.6% से बढ़कर 2019-2021 में 16.3% हो गई है. GHI के मुताबिक भारत में 224.3 मिलियन लोग कुपोषित हैं, जबकि दुनिया भर में 828 मिलियन लोगों इस श्रेणी में आते हैं. भारत ने अन्य दो संकेतकों में सुधार दिखाया है – 2014 और 2022 के बीच बाल स्टंटिंग (बच्चों में बौनापन) 38.7% से घटकर 35.5% हो गया है और इसी तुलनात्मक अवधि में बाल मृत्यु दर भी 4.6% से गिरकर 3.3% हो गई है ।

कुल मिलाकर, भारत का अपना GHI स्कोर 2014 के 28.2 से बढ़कर 2022 में 29.1 हो गया है जो अच्छा नहीं माना जाता है. हालांकि जीएचआई एक वार्षिक रिपोर्ट है, लेकिन विभिन्न वर्षों में रैंकिंग तुलनीय नहीं है। 2022 के जीएचआई स्कोर की तुलना केवल 2000, 2007 और 2014 के स्कोर से की जा सकती है. विश्व स्तर पर, हाल के वर्षों में भूख के खिलाफ प्रगति काफी हद तक रुकी हुई है. दुनिया के लिए 2022 का GHI स्कोर ‘मध्यम’ माना जाता है, लेकिन 2022 में 18.2 2014 में 19.1 से थोड़ा ही सुधार है.

यह संघर्ष, जलवायु परिवर्तन, COVID-19 महामारी के आर्थिक नतीजों जैसे अतिव्यापी संकटों के कारण है. साथ ही यूक्रेन युद्ध, जिसने वैश्विक खाद्य, ईंधन और उर्वरक की कीमतों में वृद्धि की है और उम्मीद है कि ‘2023 और उसके बाद भी भूख बढ़ेगी’. रिपोर्ट के मुताबिक ऐसे 44 देश हैं जिनमें वर्तमान में ‘गंभीर’ या ‘खतरनाक’ भूख का स्तर है और ‘बिना किसी बड़े बदलाव के, न तो पूरी दुनिया और न ही लगभग 46 देशों को 2030 तक जीएचआई द्वारा मापी गई कम भूख को प्राप्त करने का अनुमान है.

लॉरा रेनर, सीनियर पॉलिसी ऑफिसर ग्लोबल हंगर इंडेक्स, ने मीडिया को बताया कि GHI स्कोर की तुलना पिछले साल के स्कोर से क्यों नहीं की जा सकती. उन्होंने कहा कि जीएचआई स्कोर का प्रत्येक सेट 5 साल की अवधि के डेटा का उपयोग करता है. 2022 GHI स्कोर की गणना 2017 से 2021 के डेटा का उपयोग करके की जाती है; 2014 जीएचआई स्कोर की गणना 2012 से 2016 के डेटा का उपयोग करके की जाती है; 2007 जीएचआई स्कोर की गणना 2005 से 2009 के डेटा का उपयोग करके की जाती है, और 2000 के स्कोर की गणना 1998 से 2002 के डेटा का उपयोग करके की जाती है.

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!