Monday, May 20, 2024
Homeब्रेकिंगपश्चिम बंगाल : नदी में बहाव अचानक तेज होने से आठ लोग...

पश्चिम बंगाल : नदी में बहाव अचानक तेज होने से आठ लोग डूबे

-

जलपाईगुड़ी के जिलाधिकारी ने बताया कि ‘हादसे में मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है. अभी तक 8 शव निकाले गए हैं, जबकि 50 लोगों को सुरक्षित निकाला है.

जलपाईगुड़ी : दुर्गा मां की मूर्ति के विसर्जन के दौरान बुधवार को माल नदी में बहाव अचानक तेज होने के कारण बहे आठ लोगों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य अब भी लापता हैं. एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि मृतकों में चार महिलाएं भी शामिल हैं. यह घटना बुधवार रात करीब साढ़े आठ बजे उस समय हुई, जब विसर्जन के लिए सैकड़ों लोग माल नदी के किनारे एकत्रित हुए थे.


जलपाईगुड़ी जिला मजिस्ट्रेट मौमिता गोदारा ने कहा कि नदी में पानी का बहाव अचानक तेज होने से लोग बह गए. अभी तक आठ शव बरामद किए गए हैं और 50 लोगों को बचाया गया है. उन्होंने बताया कि मामूली रूप से घायल 13 लोगों को एक नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. गोदारा ने कहा, एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा मोचन बल), एसडीआरएफ (राज्य आपदा मोचन बल), पुलिस और स्थानीय प्रशासन द्वारा खोज एवं बचाव अभियान चलाया जा रहा है.

राज्य के पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री बुलु चिक बराइक ने मृतक संख्या और बढ़ने की आशंका जतायी है। बराइक मल विधानसभा क्षेत्र के विधायक हैं. उन्होंने कहा, जब हादसा हुआ, उस समय मैं मौके पर मौजूद था। कई लोग बह गए और नदी का बहाव बेहद तेज था. घटना के समय वहां सैकड़ों लोग मौजूद थे. अब भी कई लोग लापता हैं. बराइक और तृणमूल कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता राहत एवं बचाव कार्यों का जायजा लेने के लिए मौके पर पहुंचे.

पश्चिम बंगाल विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी ने घटना पर दुख जताया और राज्य प्रशासन से बचाव कार्य तेज करने का अनुरोध किया है.

2 मिनट में बह गया सबकुछ
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि बड़ी संख्या में लोग मां दुर्गा की प्रतिमा को विसर्जित करने के लिए माल नदी में लेकर आए थे. श्रद्धालु विसर्जन के लिए नदी किनारे आए, लेकिन किनारे में पानी कम था, ऐसे में वे प्रतिमा को थोड़ा आगे लेकर बढ़े ताकि वह सही से विसर्जित हो जाए. लोग बीच में खड़े होकर विधि पूर्वक प्रतिमा विजर्सित कर ही रहे थे कि अचानक नदी में जल का स्तर बढ़ गया और तेज बहाव वहां आ गया. पानी का बहाव ऐसा था मानो अचानक बाढ़ आ गई हो. तेज बहाव की वजह से लोग बहने लगे. 2 मिनट के अंदर ही सबकुछ डूबने लगा. पानी की रफ्तार इतनी तेज थी कि किनारे खड़े दूसरे लोग भी चाहकर नदी में फंसे लोगों की मदद नहीं कर पा रहे थे.

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!