Saturday, February 4, 2023
spot_img
Homeफीचरझूम के बरसा पानी  सावन आया रे

झूम के बरसा पानी  सावन आया रे

अंगना मोरे  बदली का है   साया रे 

झूम के बरसा पानी सावन आया रे

प्यासे थे बगिया,झरने,नदिया,सागर

घाट  पडे  थे  माटी के  सूखे  गागर

मेघ बदलने चला  है सूनी  काया रे

झूम के बरसा पानी  सावन आया रे

छम-छम पायल बूंदो की बजती जाये

धरती  धानी  आंचल ओढे   इतराये

ओट से  झांके सूरज भी शरमाया रे

झूम के बरसा पानी सावन  आया रे

बिजुरी चमके ओरी से टपका पानी

कहाँ से आयी इठलाती बरखा रानी

किस बिरहन ने राग मल्हारी गाया रे

झूम के बरसा पानी सावन आया रे

राज़  छुपाये रखा है  अब तो  खोलो

किसका नाम लिये फिरते हो ये बोलो

काले मेघा  किसने  तुझे  रुलाया  रे

झूम के बरसा पानी  सावन  आया रे

झूला  डाले   गोरी   पेंग   लगाती   है

आम की डारी गीत कोयलिया गाती है

पुरवईया  ने  जी भर  के  तरसाया  रे

झूम के बरसा पानी सावन  आया रे

हसन सोनभद्री

(शायर एवं लेखक)

दिल्ली

9810827858

Share This News
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img

Most Popular

Share This News