Monday, March 4, 2024
Homeउत्तर प्रदेशखुशखबरी : अब बनारस से रांची जाने में लगेंगे सिर्फ छह घंटे...

खुशखबरी : अब बनारस से रांची जाने में लगेंगे सिर्फ छह घंटे , शुरू हुआ इकोनॉमिक कॉरिडोर का काम, काटे जाएंगे सैकड़ों वर्ष पुराने बेशकीमती पेड़

-

वाराणसी- रांची इकोनाॅमिक काॅरिडोर का काम शुरू हो गया है। वाराणसी से रांची  तक बनने वाली सड़क पर सिविल कार्य और मुआवजे पर करीब सात हजार करोड़ रुपये खर्च किए जाने हैं। कारिडोर बनने के बाद  वाराणसी से रांची की 10 घंटा की यात्रा घटकर करीब छह घंटे की हो जाएगी।

लखनऊ । सैकड़ों वर्ष पुराने वृक्षों को काट कर , रांची-वाराणसी इकोनामिक कॉरिडोर बनाया जायेगा , या यूं कहें कि इस इकोनामिक कारीडोर काऔपचारिक रुप से काम शुरू भी हो चुका है। रांची से वाराणसी तक बनने वाली सड़क पर सिविल कार्य और मुआवजे पर करीब सात हजार करोड़ रुपये खर्च किए जाने हैं। कारिडोर के बनने के बाद रांची से वाराणसी से रांची की 10 घंटे की यात्रा मात्र करीब छह घंटे हो जाएगी। लगभग 260 किलोमीटर की यह यात्रा बनारस से सोनभद्र के विंढमगंज से होते हुए खजुरी वाया गढ़वा बाईपास और कुडू से लोहरदगा और रांची तक पूरी होगी।

रांची से बनारस जाने में अब लगेंगे सिर्फ छह घंटे, शुरू हुआ इकोनॉमिक कॉरिडोर का काम, काटे जाएंगे बेशकीमती पेड़
पेड़ काटे जाने के पहले एनएच 75 पर खजुरी के समीप का नजारा
  1. वाराणसी से रांची की 10 घंटा की यात्रा घटकर छह घंटे हो जाएगी
  2. वर्ष 1914 के भूमि सर्वे से पहले से अस्तित्व में रही है यह सड़क
  3. एनएच-75 के किनारे हैं महुआ, आम, सागवान, शीशम के पेड़

वाराणसी- रांची इकोनाॅमिक काॅरिडोर का काम शुरू हो गया है। वाराणसी से रांची तक बनने वाली सड़क पर सिविल कार्य और मुआवजे पर करीब सात हजार करोड़ रुपये खर्च किए जाने हैं। कारिडोर बनने के बाद वाराणसी से रांची की 10 घंटा की यात्रा घटकर करीब छह घंटे की हो जाएगी।

सड़क बनाने के लिए काटे जाएंगे एक हजार पेड़

वर्ष 1914 के भूमि सर्वे के पहले से अस्तित्व में रही यह सड़क (एनएच 75) अब रांची-वाराणसी इकोनाॅमिक काॅरिडोर बनने जा रही है।

इस सड़क पर यात्रा करने वाले हजारों लोगों को राहत तो मिलेगी, लेकिन सड़क चौड़ीकरण करने के दौरान सैकड़ों साल पुराने इमारती पेड़ भी काटे जाएंगे। कटने वाले पेड़ों की फिलहाल गिनती पूरी नहीं हो पाई है। लेकिन, अनुमानित संख्या लगभग एक हजार से अधिक बताई जा रही है।

एनएच-75 के किनारे काफी हरे-भरे महुआ, आम, सागवान, शीशम सहित कई इमारती पेड़ सालों से खड़े हैं। गढ़वा में बन रहे बाईपास को छोड़ दें, तो खजुरी से उत्तर प्रदेश के विंढमगंज तक कुल 42 किलोमीटर (श्री बंशीधर नगर बाईपास सहित) बनाया जाना है। सड़क के चौड़ीकरण के दौरान दोनों किनारों पर लगाए गए पेड़ भी काटे जाएंगे।null

पेड़ काटे जाने के बाद एनएच 75 पर खजुरी के समीप का नजारा

पर्यावरण की दिशा में ठोस पहल की उठ रही मांग

स्थानीय लोगों का कहना है कि सड़क विकास का पैमाना होता है। यह अच्छी बात है कि सड़क बन रही है, लेकिन इसमें पर्यावरण की कुर्बानी भी हो रही है। करीब सौ साल पुराने पेड़ों को काटा जाएगा।

सरकार, प्रशासन, वन विभाग और सड़क निर्माण में लगी कंपनी को पर्यावरण संरक्षण की दिशा में ठोस पहल करनी चाहिए ताकि  सड़क निर्माण में कटने वाले पेड़ के कारण पर्यावरण को होने वाली क्षति को कम किया जा सके।

रांची-वाराणसी इकोनमिक काारिडोर के निर्माण में काटे जाने वाले पेड़ों की पहचान की जा रही है। पहचान के बाद ही वास्तविक संख्या का पता चल पाएगा। फिलहाल निर्माण कर रही कंपनी को एक पेड़ के बदले 10 पौधे लगाने का निर्देश दिया गया है- गोपाल चंद्र, वन क्षेत्र पदाधिकारी, उत्तरी वन प्रमंडल गढ़वा।

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!