Saturday, July 13, 2024
Homeलीडर विशेषखान अधिकारी के वायरल हो रहे एक वीडियो ने बढ़ाई प्रशासन की...

खान अधिकारी के वायरल हो रहे एक वीडियो ने बढ़ाई प्रशासन की टेंशन

-

सोनभद्र ।

पिछले दो तीन दिनों से सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर सोनभद्र के खान अधिकारी का एक ऐसा वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें खनन अधिकारी खुद बता रहे हैं कि सोनभद्र में कैसे फर्जी परमिट का खेल चल रहा है । फिलहाल विंध्यलीडर उक्त वायरल वीडियो की सत्यता अथवा असत्यता की पुष्टि नहीं करता है।

उक्त वायरल वीडियो में खान अधिकारी अपने ऑफिस में पुलिस के एक जिम्मेदार अधिकारी के सामने यह कहते हुए नजर आ रहे हैं कि क्रेशर मालिक केवल गिट्टी का पैसा लेकर अलग हो जाता है और उसके बाद मोटर मालिक फर्जी परमिट की तलाश में जुट जाता है । यानी खनन अधिकारी खुद बता रहे हैं कि मोटर मालिकों को क्रेशर से परमिट नहीं मिलता जिस क्रेशर से वे गिट्टी का उठान करते हैं । इसका मतलब साफ है कि उक्त क्रेशर पर बिना परमिट के गिट्टी बेची जा रही है।अब ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या क्रेशर पर परमिट होते हुए भी क्रेशर संचालकों द्वारा परमिट नहीं दिया जा रहा या फिर उनके पास परमिट होता ही नहीं ?अब यदि उनके पास परमिट होते हुए भी नहीं दिया जा रहा है और जब यह बात जिम्मेदार अधिकारी को पता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही क्यों नहीं हो रही ? और यदि उसके पास परमिट नहीं है तो सबसे बड़ा सवाल यही है कि उक्त क्रेशर पर गिट्टी तोड़ने के लिए पत्थर कहाँ से आया ?इसका मतलब भी साफ है कि उक्त क्रेशर पर पत्थर अवैध खनन से निकल कर आ रहा है।

उक्त वायरल विडियो के देखने से यह यो साफ हो जाता है कि सीएम योगी ओवरलोड को खत्म करने के लिए जिस लोडिंग पॉइंट से अंडरलोड और परमिट सहित माल लादने के लिए निर्देशित किया था, उसी लोडिंग पॉइंट्स से ही भ्रष्टाचार शुरू हो रहा है और इस बात की जानकारी इसे रोकने के लिए जिम्मेदार अधिकारी को भी है पर उनके द्वारा इस पर अंकुश लगाने की जगह अपने ऑफिस में बैठकर इसकी स्वीकारोक्ति करने के सिवा कुछ नहीं किया जा रहा।

फ़िलहाल खनन अधिकारी के इस वायरल वीडियो के बाद प्रशासनिक अमले में हड़कंप मचा हुआ है। दरअसल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खनन में व्याप्त भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए यह विभाग खुद अपने पास रखा है। सीएम ने प्रदेश के सभी अधिकारियों निर्देशित किया था कि लोडिंग पॉइंट्स से ही अंडरलोड माल व वैध परमिट दिया जाय ताकि ओवरलोड खत्म हो सके और हमारी सड़कें सुरक्षित रह सके। यहां आपको बताते चलें कि अवैध खनन व ओभरलोडिंग पर लगाम न लगा पाने के कारण ही पूर्व जिलाधिकारी पर मुख्यमंत्री ने कड़ा एक्सन लिया था।अब जब खान अधिकारी स्वयं यह बात स्वीकार कर रहे हैं कि क्रेशर व्यवसायी बिना परमिट के ही गिट्टी बेच रहे हैं तो साफ है कि अवैध खनन चल रहा है।

उक्त वायरल विफियो में सोनभद्र के खनन अधिकारी का कहना है कि गिट्टी मालिक को केवल अपनी गिट्टी के दाम से मतलब है, यानी यदि क्रेशर मालिक मोटर मालिकों को परमिट नहीं दे रहा तो क्या उसके क्रेशर पर उपलब्ध गिट्टी भी अवैध है और फिर मोटर मालिक घूम-घूम कर फर्जी परमिट कहाँ से लाते है ? क्या जिले में कोई गैंग काम कर रहा है जो परमिट की कालाबाजारी कर रहा है और अब तक प्रशासन की पकड़ से बाहर है। फिलहाल खनन अधिकारी के इस वायरल बयान ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं।

यहां आपको बताते चलें कि दरअसल पिछले कुछ दिनों से सोनभद्र में प्रशासन ने चेकिंग अभियान चलाकर बड़ी संख्या में ओवरलोड व बिना परमिट ट्रकों के खिलाफ कार्यवाही कर दी । प्रशासन के इस ताबड़तोड़ कार्यवाही के बाद मोटर मालिकों में हड़कम्प मच गया और ट्रक एशोसिएशन के लोग मंगलवार को बड़ी संख्या में सड़क पर उतरकर हंगामा करना शुरू कर दिया और खान विभाग की कमियों व भ्र्ष्टाचार को सरेआम कर दिया।


ट्रक मालिकों के हंगामे के बाद सकते में आये जिला प्रशासन ने ट्रक मालिकों को वार्ता के लिए खनन आफिस बुलवाया, जहां एडिशन एसपी कालू सिंह के अलावा खनन अधिकारी, सीओ सीओ सिटी राजकुमार तिवारी तथा ट्रक मालिक मौजूद थे और वार्ता के क्रम में खनन अधिकारी खुद ही अपने विभाग के कारनामें को कबूल करते दिख रहे हैं। उक्त वार्ता में जहां ट्रक मालिकों ने खनन अधिकारी पर परमिट से ज्यादा पैसा वसूलने औऱ उत्पीड़न का आरोप लगाया तो खनन अधिकारी अपनी गर्दन फंसता देख ऐसा बयान दे डाला जो वायरल हो गया और अब वही बयान प्रशासन के लिए गले की हड्डी बन गयी है ।

ऐसा में बड़ा सवाल यही है कि जहां एक तरफ सीएम योगी प्रदेश को भ्रष्टाचार मुक्त करने की दिशा में काम कर रहे हैं वही सोनभद्र एक ऐसा जिला है जहां मुख्यमंत्री के ही विभाग में सब कुछ ठीक ठाक नहीं चल रहा ।अब आगे देखना होगा कि जांच के बाद क्या निकल कर आता है फिलहाल तो खनन विभाग की किरकिरी हो ही गयी।

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!