Tuesday, May 21, 2024
Homeलीडर विशेषउत्तर प्रदेश : क्या राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का रूट...

उत्तर प्रदेश : क्या राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का रूट है ‘मास्टरस्ट्रोक’, टेंशन में हैं सपा-आरएलडी और बीएसपी ?

-

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा 3 जनवरी को गाजियाबाद के लोनी से होते हुए शामली, कैराना और बागपत पहुंचेगी. यात्रा का रूट ही उत्तर प्रदेश की प्रमुख विपक्षी पार्टियों की चिंता की वजह बन गया है.

राजेन्द्र द्विवेदी और ब्रजेश पाठक की नई दिल्ली से खास रिर्पोट

नई दिल्ली । जनवरी के पहले हफ्ते में राहुल गांधी की यात्रा पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के लोनी पहुंचेगी जहां से बागपत, शामली और कैराना आएगी.  कैराना में राहुल गांधी की अगुवाई में पदयात्रा होगी. इसके बाद यह यात्रा 6 जनवरी को हरियाणा में पहुंचेगी. पानीपत, करनाल, कुरुक्षेत्र और अंबाला होते हुए 12 जनवरी को पंजाब पहुंच जाएगी.

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा जनवरी के पहले हफ्ते में पश्चिमी यूपी पहुंचेगी

लेकिन यात्रा का दूसरा चरण जब शुरू होगा तो राहुल गांधी, कांग्रेस और समूचे विपक्ष की भूमिका आने वाले वक्त में लोकसभा चुनाव 2024 की एक तस्वीर खींचेगी. इसके साथ ही उत्तर प्रदेश में विपक्षी एकता का भी कड़ा इम्तेहान होने वाला है.

उत्तर प्रदेश में बीजेपी साल 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद से लगातार अपना आधार मजूबत करती जा रही है. बात करें 2022 में हुए विधानसभा चुनाव की करें तो दूसरे नंबर पर रही समाजवादी पार्टी से उसके वोट प्रतिशत में 10 फीसदी का अंतर है. 

उत्तर प्रदेश:  क्या राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का रूट है 'मास्टरस्ट्रोक', टेंशन में हैं सपा-आरएलडी और बीएसपी?

बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में जिस तरह से गैर-यादव ओबीसी, सवर्णों और गैर-जाटव दलितों का जातीय समीकरण तैयार किया है उसके आगे सपा, बीएसपी और कांग्रेस के अकेले दम पर सामना फिलहाल तो बिलकुल करते नजर नहीं आ रहे हैं.

कांग्रेस की ओर से यूपी की भी विपक्षी पार्टियों को शामिल करने का न्योता भेजा गया है. फिलहाल सपा, आरएलडी और बीएसपी तीनों प्रमुख इसमें आने की मंशा नहीं जता रही हैं. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने साफ कहा है कि उनको अभी तक कोई आमंत्रण नहीं मिला है.

Bharat Jodo Yatra: कमलनाथ बोले- 2024 के लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी प्रधानमंत्री पद का चेहरा होंगे

उत्तर प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा का जो रूट तय किया गया है, दरअसल इसी ने तीनों पार्टियों को सोचने के लिए मजबूर कर दिया है. शामली, कैराना और बागपत के जिन इलाकों से ये यात्रा गुजरेगी, वे मुस्लिम बहुल इलाके हैं. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मुस्लिम वोट बैंक चुनाव में एक अहम किरदार निभाता है.

खास बात ये है कि पश्चिमी यूपी में इस वोटबैंक पर सपा, आरएलडी और बहुजन समाज पार्टी तीनों ही दावा करते हैं. ऐसे राहुल गांधी की अगुवाई स्वीकार करके इस यात्रा में शामिल होने का मतलब है कि अपने ही वोटों पर कांग्रेस को स्पेस देना.

कांग्रेस छोड़ने के बाद क्या गुलाम नबी आजाद लेने वाले हैं यू-टर्न? आई है ये खबर

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव से जब इस यात्रा में शामिल होने के बारे में पूछा गया तो उनका जवाब था कि उनकी पार्टी की विचारधारा अलग है. बीजेपी और कांग्रेस एक ही सोच वाली पार्टी हैं. वहीं सपा के साथ-साथ आरएलडी नेताओं ने भी इस यात्रा से अभी तक दूरी बनाए रखने के संकेत दिए हैं.

यूपी में कभी मुसलमान और दलित कांग्रेस का कोर वोट बैंक हुआ करते थे. लेकिन 90 के दशक में मुस्लिम वोटबैंक समाजवादी पार्टी के साथ चला गया और दलित वोटों पर बीएसपी का एकमुश्त कब्जा हो गया. कांग्रेस दोनों ही समुदाय के वोटरों को अपने पाले में लाने की रणनीति पर काम कर रही है. साल 2019 के लोकसभा चुनाव में ही प्रियंका गांधी की एक टीम दलित बहुल सीटों पर काम कर ही थी जो उस समय मायावती की तीखी बयानबाजी की वजह भी बनी थी.

अब बागपत, कैराना और शामली के मुस्लिम बहुल इलाकों से यात्रा को निकालने का मकसद का भी एक रणनीति का हिस्सा हो सकता है. जिन जगहों से ये यात्रा निकलेगी वहां पर करीब 30 फीसदी वोटर मुस्लिम हैं. ये कांग्रेस के लिए यूपी में बड़ा मास्टरस्ट्रोक साबित हो सकता है क्योंकि यूपी में शायद दशकों बाद कांग्रेस बड़ा नेता लोगों से मिलने के लिए ‘यात्रा’ कर रहा हो.

सपा, आरएलडी और बीएसपी को अंदेशा है कि राहुल गांधी की ये यात्रा इन इलाकों में उनकी पकड़ कमजोर कर सकती है और यही वजह है कि तीनों ही पार्टियां इसको तवज्जो देने से बच रही हैं.

80 लोकसभा सीटें वाले राज्य उत्तर प्रदेश में यह यात्रा प्रदेश की विपक्षी पार्टियों के लिए चुनौती, दुविधा और टेंशन तीनों लेकर आ रही है.साल 2024 के लोकसभा चुनाव में जहां संयुक्त विपक्ष के दम पर बीजेपी को चुनौती देने की बात हो रही है, वहीं भारत जोड़ो यात्रा से किनारा करना विपक्षी एकता की रणनीति पर पलीता लगाना भी है. 

विधानसभा चुनाव 2022 में बीजेपी, मुख्य प्रतिद्वंदी सपा से 10 फीसदी ज्यादा वोट पाकर 255 सीटें लेकर आई है. यूपी के इतिहास में यह दशकों बाद हुआ है कि कोई पार्टी ने लगातार दूसरी बार सरकार बनाई हो.

जिस तरह से बीजेपी के पक्ष में ओबीसी-सवर्णों और दलितों की जातीय गोलबंदी दिखाई दे रही है ऐसे में वोटों के इस अंतर को पाटना फिलहाल किसी एक दल के अकेले के बूते की बात नहीं है. 

2019 के लोकसभा चुनाव की तो बीजेपी को यूपी में 49 फीसदी वोट मिले थे. इस चुनाव में समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल ने मिलकर चुनाव लड़ा था. लेकिन इन पार्टियों के जातीय समीकरण मिलने के बाद भी गठबंधन बीजेपी से 10 फीसदी कम वोट पा सका.

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा भले ही यूपी की 3 जिलों से गुजरने जा रही हो लेकिन इसका असर दूर तक दिखने वाला है. रूट से राजनीति की दिशा भी तय हो सकती है.

सम्बन्धित पोस्ट

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

ताज़ा समाचार

error: Content is protected !!